Indian Railway: रेलवे सफर के दौरान वरिष्ठ नागरिकों को मिलती है खास सुविधाएं, अधिकतर लोग तो नही उठा पाते कोई फायदा

सरकार और रेलवे ने समाज के लिहाज से बुजुर्ग लोगों के लिए कई सुविधाएं प्रदान की हैं।आइए जानते हैं कि भारतीय रेलवे में वरिष्ठ नागरिकों को क्या सुविधाएं प्रदान की जाती हैं।
 
 रेलवे सफर के दौरान वरिष्ठ नागरिकों को मिलती है खास सुविधाएं

वरिष्ठ नागरिकों के लिए रेलवे की विशेष सुविधाएं

सरकार और रेलवे ने समाज के लिहाज से बुजुर्ग लोगों के लिए कई सुविधाएं प्रदान की हैं।आइए जानते हैं कि भारतीय रेलवे में वरिष्ठ नागरिकों को क्या सुविधाएं प्रदान की जाती हैं।

सीनियर सिटीजन छूट: भारतीय रेलवे ने पहले वरिष्ठ नागरिकों को ट्रेन किराए में रियायत दी थी लेकिन कोरोना के कारण यह सुविधा स्थगित कर दी गई थी।

लोअर बर्थ प्राथमिकता: वरिष्ठ नागरिकों को टिकट बुक करते समय लोअर बर्थ पर प्राथमिकता दीजाती है।

आरक्षित सीटें: विशेष ट्रेनों में वरिष्ठ नागरिकों के लिए सीटें आरक्षित हैं।

व्हीलचेयर सुविधा: प्रमुख स्टेशनों पर वरिष्ठ नागरिकों को व्हीलचेयर की सुविधा प्रदान की जाती है।

वरिष्ठ नागरिकों को समय-समय पर निम्नलिखित सुविधाएं दी गई हैं

कम्प्यूटरीकृत यात्री आरक्षण प्रणाली में टिकट बुकिंग के समय आवास के अधिभोग के आधार पर वरिष्ठ नागरिकों , 45 वर्ष और उससे अधिक की महिला यात्रियों को स्वत निचली बर्थ आबंटित करने का प्रावधान है, भले ही इसके लिए कोई विकल्प नहीं दिया गया हो।

वरिष्ठ नागरिकों , 45 वर्ष और उससे अधिक आयु महिला यात्री और गर्भवती महिलाएं स्लीपर क्लास में 6 से 7  निचली बर्थ, वातानुकूलित 3 टियर (3एसी) में प्रति सवारी डिब्बा चार से पांच निचली बर्थ और वातानुकूलित 2 टियर (2एसी) श्रेणियों में प्रति सवारी डिब्बा तीन से चार निचली बर्थ (गाड़ी में उस श्रेणी के सवारी डिब्बों की संख्या के आधार पर ) का संयुक्त कोटा निर्धारित किया गया है। 

ये भी पढ़े :-हरियाणा का पहला ज़िला जिसमें वायरलेस तरीक़े से घर घर तक पहुँचेगी बिजली, बिना तारों के हर घर तक पहुँचेगी बिजली

सभी क्षेत्रीय रेलों के उपनगरीय खंडों पर लोकल गाड़ी सेवाओं की पूरी अवधि के लिए द्वितीय श्रेणी के पहले और आखिरी सामान्य सवारी डिब्बे में वरिष्ठ नागरिकों के लिए न्यूनतम 7 सीटें तय करने के निर्देश जारी किए गए हैं। स्टेशनों पर व्हीलचेयर के प्रावधान से पहले, रेलवे द्वारा अपनी लागत पर व्हीलचेयर प्रदान की जाती है और दिव्यांगों के परिजनों को गाड़ियों तक ले जाने के लिए वाहन उपलब्ध कराए जाते हैं। हालांकि, जब भी परिचर इच्छुक नहीं होते हैं या परिचर नहीं होते हैं, दिव्यांगजनों आदि को गाड़ियों तक लाने और ले जाने के लिए पूर्व निर्धारित नाममात्र दर पर कुलियों की सेवाएं ली जा सकती हैं। इस संबंध में रेलवे स्टेशन परिसरों में प्रमुख स्थानों पर सूचना प्रदर्शित की जाती है। सभी प्रमुख स्टेशनों पर प्रत्येक प्लेटफार्म पर एक व्हीलचेयर और आइलैंड प्लेटफार्मों के मामले में प्रत्येक दो प्लेटफार्मों पर एक व्हील चेयर का प्रावधान है।

महत्वपूर्ण सूचना

सुविधा    विवरण
सीनियर सिटीजन छूट    पहले 40%-50% छूट मिलती थी
लोअर बर्थ प्राथमिकता    वरिष्ठ नागरिकों को दी जाती है
आरक्षित सीटें    विशेष ट्रेनों में आरक्षित
व्हील चेयर सुविधा    बड़े स्टेशनों पर उपलब्ध

ये भी पढ़े :-जिन भारतीय नोटों पर स्टार मार्क होता है वो फेक है या नही, RBI ने बताई असली बात

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने राज्यसभा में एक लिखित जवाब में कहा है कि भारतीय रेलवे जल्द ही वरिष्ठ नागरिकों की रियायत को बहाल कर सकता है, जिसे कोविड के कारण बंद कर दिया गया था।

भारतीय रेलवे का नेटवर्क बहुत बड़ा है, रोजाना लाखों लोग यात्रा करते हैं, यात्रा करने के लिए आपको दिए गए पीआरएस काउंटर से या ऑनलाइन टिकट बुक करना होगा।

Tags