अब मथुरा की बारी : मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि मंदिर से सटी शाही ईदगाह मस्जिद पर जल्द आयेगा फैसला

ईदगाह क्षेत्र में सर्वे कब और कैसे शुरू होगा, इस बारे में जल्द ही निर्णय हो सकता है। इस मामले में दोनों पक्षों ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में अपना पक्ष रखा।
 
Now Mathura's turn: Decision will be taken soon on Shahi Idgah Mosque adjacent to Krishna Janmabhoomi Temple in Mathura.

इलाहाबाद हाई कोर्ट का निर्णय जल्द आयेगा  शाही ईदगाह पर 

मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि मंदिर से सटी शाही ईदगाह मस्जिद पर चल रही कानूनी लड़ाई अब इलाहाबाद हाई कोर्ट में जारी है। गुरुवार को कोर्ट में इस मुद्दे पर सुनवाई हुई: विवादित क्षेत्र का सर्वे कैसे किया जाए और अधिवक्ता आयोग कैसे बनाया जाए। दोनों पक्षों ने अदालत में अपने-अपने तर्क प्रस्तुत किए, जो कोर्ट ने रिकॉर्ड किया। अब अदालत जल्द ही अपना निर्णय देगी। 

सर्वे के लिए  विशेष अनुमति

मुस्लिम पक्ष ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में मामले की सुनवाई शुरू होते ही दो कारणों से सुनवाई टालने की मांग की। पहला आधार था कि सर्वे के आदेश के खिलाफ विशेष अनुमति याचिका (एसएलपी) पर सुनवाई अभी लंबित है और 16 जनवरी को हियरिंग हो सकती है। दूसरा आधार था कि उनके वकील पुनीत गुप्ता के पिता का हाल ही में निधन हो गया है, जो पहले ही इस मामले में सुनवाई टालने का प्रार्थना पत्र दे चुके हैं। यही कारण है कि इस मामले में फिलहाल कोई कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए। 

सर्वे से किसी पक्ष को नुकसान नहीं होगा 

हिंदू पक्ष के अधिवक्ता ने कहा कि सर्वे टीम के गठन के आदेश से किसी पक्ष को कोई नुकसान नहीं होगा। ऐसे में अदालत हाई कोर्ट के सेवानिवृत्त जस्टिस की अध्यक्षता में सर्वे टीम बनाने का आदेश दे सकती है। संबंधित पक्षों को सुनने के बाद, अदालत ने कहा कि इस मामले में आदेश बाद में पारित हो सकता है और पोर्टल पर उपलब्ध कराया जा सकता है। 

मस्जिद में हिंदू प्रतीक चिन्ह हैं......

14 दिसंबर 2023 को, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने शाही ईदगाह मस्जिद का सर्वे करने के लिए एक एडवोकेट कमिश्नर नियुक्त करने की अनुमति दी थी। याचिकाकर्ता हिंदू पक्ष का कहना है कि मस्जिद में हिंदू प्रतीक चिन्ह हैं, जो बताते हैं कि वह हिंदू मंदिर था। भगवान श्रीकृष्ण विराजमान और सात अन्य की ओर से दायर अर्जी पर सुनवाई के बाद जस्टिस मयंक कुमार जैन ने एडवोकेट कमिश्नर के गठन की मांग मंजूर की। 

Tags