Mughal Haram : कौन सी रानी बादशाह के साथ सोएगी, इसका फैसला करने के लिए एक खास तरीके का इस्तेमाल किया जाता था।

 
Mughal Haram : कौन सी रानी बादशाह के साथ सोएगी, इसका फैसला करने के लिए एक खास तरीके का इस्तेमाल किया जाता था।

Mughal Harem :- मुगलों के हरम के बारे में आपने बहुत सुना होगा, जिसमें हजारों महिलाएं थीं। बादशाह की खिदमत करना उनका मात्र काम था। बादशाह के बिस्तर तक पहुंचना हर कनीज का सपना था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

अकबर के हरम में पांच हजार से अधिक महिलाएं थीं, लेकिन उनमें से कुछ सैकड़ों ही उसके बिस्तर तक पहुंचीं, जैसा कि अबुल फजल ने खुद लिखा है। यह दिलचस्प है कि बादशाह की बेगमों सहित हजारों महिलाओं में से सिर्फ एक ने यह अवसर पाया, लेकिन बादशाह के बिस्तर पर कौन बैठेगा?

क्या आपको लगता है कि हरम सिर्फ ऐसा नहीं था?

मुगल बादशाह के हरम केवल आपका विचार नहीं था; मुगल बादशाह को आराम मिल गया। खास बात यह है कि सिर्फ राजा ने प्रवेश किया। वह जब चाहे वहाँ जा सकता था। उन्होंने वहाँ जाकर एक आसन पर बैठ गया। उसके चारों ओर उसकी बेगमें बैठती थीं। साथ ही, आसपास युवतियां थीं। बादशाह हरम में ही मालिश करते थे, ताकि उन्हें तरोताजा महसूस हो। संगीत की धुन भी हरम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा थी।

किसने निर्णय लिया कि बिस्तर पर कौन होगा?

बादशाह हरम में भी शराब पीते थे। नाच-गाने और संगीत की धुनों के बीच पीने-पिलाने का क्रम जारी रहा, जब तक बादशाह बिस्तर पर जाने की इच्छा नहीं करता था। बादशाह का साथ कौन देगा? डच कारोबारी फ्रांसिस्को जहांगीर भारत आया था। उनका उल्लेख है। उसने लिखा कि बादशाह ने पूरी तरह से उनका हरम बिस्तर कौन होगा। वह चाहे राजा की बेगम हो या एक कनीज। राजा की इच्छा के खिलाफ कोई नहीं जा सकता था, खासकर।

हरम से बाहर जाने का मतलब मौत

हरम में हजारों महिलाएं थीं, लेकिन किसी को बाहर नहीं निकाला गया। बादशाह की उम्र की रानियों को भी बाहर आने की अनुमति नहीं थी। हरम किले में एक विशेष स्थान पर हुआ करता था। जहां एकमात्र मुगल शासक गया था। उस जगह जाने की हिम्मत करने भर के लिए मौत की सजा निर्धारित की गई थी। हरम में भी महिलाएं चाहरदीवारी के बीच रहती थीं। वहां से भागने या भागने पर किसी को मार डाला जाता था।

रानियों ने कनीजों को सजा दी

हरम में बंद महिलाओं को सभी सुविधाएं दी गईं। बेगम के साथ बैठे हुए बादशाह को किसी भी तरह की कनीज पसंद नहीं आई। ताकि बादशाह को फिर से पुकारने की जरूरत न पड़े, रानी ही उसे मरवा दी। यह भी प्रतिक्रिया का एक तरीका था। किन्नर हरम की सुरक्षा करते थे ताकि महिलाओं पर किसी और की नजर न पड़े, लेकिन हरम में घुसने से भी मनाही थी।

Tags