भारत के इस कोने में सब्ज़ियों से भी कम क़ीमत में मिलते है काजू बादाम, एक दो किलों नही बल्कि पेटियां भरके ख़रीदते है लोग

हम सभी जानते हैं कि सूखे मेवे सेहत के लिए कितना अच्छा हैं। ये मेवे हेल्थ के लिए सबसे अधिक लाभदायक होते हैं, जैसे कमजोरी, आंखों की रोशनी, तेज दिमाग और याददाश्त। यद्यपि, जब बात काजू-बादाम की आती है, तो यही मेवे सबसे महंगे हैं।
 
Dry Fruits Market

Dry Fruits Market:- हम सभी जानते हैं कि सूखे मेवे सेहत के लिए कितना अच्छा हैं। ये मेवे हेल्थ के लिए सबसे अधिक लाभदायक होते हैं, जैसे कमजोरी, आंखों की रोशनी, तेज दिमाग और याददाश्त। यद्यपि, जब बात काजू-बादाम की आती है, तो यही मेवे सबसे महंगे हैं। जो लोग मुट्ठीभर भी खरीद लें तो उनकी जेब भर जाएगी। हालाँकि, भारत में एक स्थान है जहां आप ड्राई फ्रूट्स को आलू-प्याज के साथ खरीद सकते हैं। 1000 रुपए में मिलने वाले बादाम आज 40 रुपए किलों में मिल जाएंगे। तो चलिए फिर से इस लेख में उस मार्केट के बारे में बताते हैं।

ये भी पढ़े:-घर की दीवार से कितनी दूर पर फ्रिज रखना है बिल्कुल सही, वरना थोड़े टाइम बाद ही मिस्त्री को पड़ेगा बुलाना

यहाँ सबसे सस्ता ड्राई फ्रूट्स मार्केट है

झारखंड, भारत, सबसे सस्ता ड्राई फ्रूट्स बेचता है। झारखंड राज्य के जामताड़ा जिले को काजू नगरी भी कहा जाता है। झारखंड में भी काजू की खेती की जाती है।
यहाँ हर साल हजारों टन काजू की खेती होती है। यहां आपको कौड़ियों में ड्राई फ्रूट्स की कीमत दिखाई देगी।

जामताड़ा में काजू बादाम की कीमत क्या है

भारत में काजू की कीमत 900 रुपए से 1 हजार रुपए प्रति किलो है। लेकिन जामताड़ा में सड़क किनारे लोगों को काजू-बादाम बेचते हुए देखा जा सकता है। आप आसानी से 30 से 40 रुपए प्रति किलो काजू खरीद सकते हैं।

ये भी पढ़े:-RBI को मजबूरी के चलते इस सिक्के को करना पड़ा बंद, भारतीय मार्केट में दिखना बंद हो गये ये सिक्के

जामताड़ा में काजू और बादाम इतना सस्ता क्यों है

नाला गांव, जामताड़ा में लगभग पच्चीस एकड़ जमीन पर काजू की खेती की जाती है। यह भी काजू के बड़े बागान है। यही कारण है कि बागान में काम करने वाले लोग सूखे मेवे बहुत कम मूल्य पर बेचते हैं। झारखंड की राजधानी दुमका में भी काजू की बहुतायत है।

किसानों को मुनाफा नहीं मिलता

इसके अलावा, संथाल परगना प्रमंडल में काजू की खेती भी होती है। यहां ग्रामीण खेती से अधिक मुनाफा नहीं हो पाता क्योंकि किसानों को उपज का सही मूल्य नहीं मिलता और प्रोसेसिंग प्लांट भी नहीं हैं।
 


 

Tags