Haryana Roadways: हरियाणा के इस जिले के रोड़वेज बेड़े में शामिल हुई 19 नई बसें, जाने किन रूटों पर चलेगी नई बसें

हरियाणा परिवहन विभाग यात्रियों को बेहतर यातायात सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में जींद रोडवेज डिपो के बेड़े में नई बसें शामिल की गई हैं
 
 हरियाणा के इस जिले के रोड़वेज बेड़े में शामिल हुई 19 नई बसें

Jind News: हरियाणा परिवहन विभाग यात्रियों को बेहतर यातायात सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में जींद रोडवेज डिपो के बेड़े में नई बसें शामिल की गई हैं, जिसका सीधा फायदा यात्रियों को होगा। जींद डिपो के बेड़े में 19 नई बसें शामिल हुई हैं, जिन्हें लोकल रूटों पर चलाया जाएगा।

इन रूटों पर बढ़े बसों के फेरे 

यात्रियों को बेहतर रोडवेज सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए रोडवेज प्रबंधन ने यह निर्णय लिया है। जींद से कैथल, रोहतक, सफीदों, पानीपत, बरवाला, हांसी, असंध तक बसों के चार से पांच फेरे बढ़ाए गए हैं। हालांकि, पहले डिपो में बसों की कमी थी। इस कारण कई बार इन रूटों पर समय पर बस नहीं मिल पाती।

ये भी पढ़े :-  1986 में स्मार्टफ़ोन से भी कम क़ीमत में आ जाती थी रॉयल एन्फ़ील्ड, 37 साल पुराना शोरूम का बिल देखकर लोगों के उड़े होश

समय पर बसें नहीं मिलने से ग्रामीणों को आवागमन में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। गांव के बस अड्डों पर घंटों इंतजार करना पड़ा। दोपहर व शाम को ग्रामीणों को बसें नहीं मिल सकीं। इसके चलते अक्सर लोगों को निजी साधन से यात्रा करनी पड़ती थी। लेकिन अब नई बसें मिलने से यात्री समय पर अपने गंतव्य तक पहुंच सकेंगे।

बसों की संख्या इन रूटों पर बढ़ाई गई 

कैथल रूट पर दोपहर 3 बजे के बाद, सफीदों रूट पर दोपहर 12 बजे के बाद, भिवानी रूट पर शाम 5 बजे के बाद, पानीपत रूट पर सुबह 6 बजे के बाद बसों की संख्या बढ़ाई गई है। इन रूटों पर सुबह 6 बजे से बसों का परिचालन शुरू हो जाएगा.

ये भी पढ़े :- पहली बार छपे 10 के नोट पर नही थी गांधी जी की तस्वीर, गांधी जी की जगह थी इस राजा की तस्वीर

डिपो महाप्रबंधक कमलजीत सिंह ने बताया कि क्लर्कों की हड़ताल के कारण अभी तक नई बसों में फास्टैग नहीं लगाए जा सके हैं। फास्टैग लगते ही चंडीगढ़, पटियाला, दिल्ली, गुरुग्राम रूट पर बसों की संख्या बढ़ा दी जाएगी। इन बसों को चलाने के लिए विभाग की ओर से नया टाइम टेबल भी तैयार किया जा रहा है ताकि अधिक से अधिक यात्रियों को बसों की सुविधा मुहैया कराई जा सके.

Tags