Banking News : आखिर क्या है सेविंग अकाउंट से लगातार पैसे निकलने का कारण?

 
Banking News : आखिर क्या है सेविंग अकाउंट से लगातार पैसे निकलने का कारण?

Banking News :- ग्राहक कम ब्याज वाले बचत खाते से पैसा निकालकर एफडी कर रहे हैं। इसका कारण यह है कि बचत खाते और सावधि जमा की ब्याज दरों का अंतर तीन साल में सबसे अधिक है। जमा की लागत लगातार बढ़ने के कारण इस कदम ने बैंकों को मुसीबत में डाल दिया है।

पिछले तीन वर्षों में बचत खातों पर ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं हुआ है, लेकिन बैंकों ने सावधि जमा पर ब्याज दर में काफी इजाफा किया है ताकि वे अपनी पूंजी की आवश्यकता को पूरा कर सकें। उदाहरण के लिए, भारतीय स्टेट बैंक 2020 से बचत खाते पर 2.7 से 3% और दो साल की एफडी पर 6.8 % ब्याज दे रहा है।

वृद्धि दर बढ़ी :- आईसीआईसीआई बैंक के कार्यकारी निदेशक संदीप बत्रा ने कहा कि एफडी की ब्याज दरों का बढ़ना स्वाभाविक है क्योंकि दोनों दरों में पहले काफी कम अंतर था। बजट दरों में वृद्धि से ग्राहक एफडी की ओर बढ़ रहे हैं। बत्रा ने बताया कि सावधि जमा में पिछले वर्ष 25.8% की वृद्धि हुई, जबकि चालू खाते और बचत में 9% की वृद्धि हुई। ग्राहकों को अधिक ब्याज देने की कोशिश के चलते पिछले तीन महीने में बैंक के बचत खाते की वृद्धि दर सिर्फ 6.6% रही। चालू खाते की वृद्धि दर भी 14.8% रही। गौरतलब है कि चालू खातों में जमा होने वाली रकम पर बैंक को ब्याज नहीं देना पड़ता।

RBI के आंकड़े :- आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार बचत खाते और FD की ब्याज दरों में अंतर 260 आधार अंक पर पहुंच गया है, जो तीन साल के उच्च स्तर है। 2022 में यह अंतर 220, 2021 में 230 आधार अंक था।

आईडीएफसी फर्स्ट बैंक और पंजाब नेशनल बैंक में भी चालू खाते और बचत खाते से एफडी में जमा का अंतर तेजी से बढ़ रहा है। इस वर्ष आईडीएफसी फर्स्ट बैंक की बचत और चालू खाते में पड़ी राशि पिछले वर्ष के 45 % के मुकाबले 46% रही, जबकि FD जमा पिछले वर्ष के 27 % के मुकाबले 66% बढ़ा।

Tags