अमेरिका मे रहने वाले एक भारतीय नगरीक ने राम मंदिर मे योगदान के लिए दिए करोड़ों रुपया

एक भारतीय मूल का सामाजिक कार्यकर्ता, ने विशेष रूप से प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताया है। वास्तव में वह पहले भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील कर चुके थे कि भारतीयों को अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में भाग लेने की अनुमति दी जाए।

 
An Indian citizen living in America gave crores of rupees to contribute to Ram Temple.

राम लला आ रहे है घर 

देश और विदेश में रहने वाले करोड़ों हिंदुओं के लिए आने वाला समय बहुत शुभ होगा। 22 जनवरी को अयोध्या में श्री राम मंदिर का उद्घाटन होगा। इसकी व्यापक तैयारी की जा रही है। ऐसे में अमेरिका में भारतीय मूल के एक व्यक्ति ने मंदिर के निर्माण में भारतीय समुदाय के योगदान के लिए उठाए गए महत्वपूर्ण कदमों का स्वागत किया है।

सामाजिक कार्यकर्ता प्रेम भंडारी ने दिए करोड़ों रुपये 

भारतीय मूल के सामाजिक कार्यकर्ता प्रेम भंडारी ने विशेष रूप से प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताया है। वास्तव में, वह इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील कर चुके थे कि अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में भारतीयों को सहयोग करने की अनुमति दी जाए। उन्होंने कहा कि दुनिया भर में लगभग ३.५ करोड़ प्रवासी भारतीय और भारतीय मूल के लोग हैं, जिनमें से अधिकांश मंदिर बनाने में सहयोग करना चाहते हैं।

An Indian citizen living in America gave crores of rupees to contribute to Ram Temple.

वास्तव में, उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि एक ऐसी व्यवस्था बनाई जाए, जिससे भारतीय समुदाय के सदस्यों को उनकी श्रद्धा के अनुसार धनदान करने की अनुमति मिलेगी। भारतीय मूल के और गैर-भारतीय पासपोर्टधारक भी मंदिर निर्माण में दान दे सकते थे, इसके बाद श्रीराम जन्मभूमित तीर्थ क्षेत्र की वेबसाइट पर सूचना दी गई।

वेबसाइट पर बताया गया है कि विदेशी योगदान विनियमन एक्ट (एफसीआरए) 2010 के तहत ट्रस्ट ने रजिस्ट्रेशन कराया है. अब गैर-भारतीय पासपोर्टधारक भक्त भी मंदिर निर्माण में स्वेच्छिक रूप से सहयोग कर सकते हैं। 

ओवरसीज फ्रैंड्स ऑफ राम मंदिर

“ओवरसीज फ्रैंड्स ऑफ राम मंदिर” नामक संगठन की स्थापना करने वाले भंडारी ने दुनिया भर के 3.5 करोड़ प्रवासी भारतीयों से इस ट्रस्ट को धन देने का आह्वान किया।

भंडारी ने कहा कि हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस ऐतिहासिक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आभारी हैं। अयोध्या से हजारों मील दूर बैठकर हमें लगता है कि हम राम मंदिर से जुड़े हुए हैं। 

22 जनवरी को मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से पहले भंडारी ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक अवसर होगा और दुनिया भर के भक्त अब इस पावन अवसर में अपनी श्रद्धानुसार योगदान कर सकेंगे। भंडारी ने बताया कि नए साल से ही उन्होंने अंतरराष्ट्रीय प्रवासी भारतीयों से जुड़ना शुरू कर दिया है, जो ओवरसीज फ्रैंड्स ऑफ राम मंदिर संगठन के उनके साथी हैं। 
 

Tags