26 लड़कियाँ बालिकागृह से हुयी गायब , भोपाल मे मचा हड़कम्प अवैध रूप से चल राहा था यह बालिकागृह

राष्ट्रीय बाल आयोग के अध्यक्ष ने भी मामले के सामने आते ही मध्य प्रदेश की मुख्य सचिव वीरा राणा को पत्र लिखा है। बिना अनुमति के चलाए जा रहे बालिकागृह में गुपचुप रूप से ईसाई धर्म का अभ्यास किया गया था।
 
 
26 girls went missing from the girls' home, created a stir in Bhopal. This girls' home was running illegally.

26 लड़कियाँ बालिकागृह से गायब 

भोपाल, मध्य प्रदेश की राजधानी, एक बहुत आश्चर्यजनक मामला सामने आया है। बिना अनुमति के चल रहे बालिका गृह से 26 बच्चियां गायब बताई गई हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार, बालिकागृह में 68 बच्चियों के रहने की अनुमति मिली है लेकिन 41 बच्चियों को ही वहा देखा गया । इसमें गुजरात, झारखंड, राजस्थान और मध्य प्रदेश के सीहोर, रायसेन, छिंदवाड़ा और बालाघाट की बच्चियां शामिल थीं। यह सब बिना राष्ट्रीय बाल आयोग की अनुमति के हो रहा था। बताया गया है कि धर्मांतरण का अश्लील खेल चल रहा था। फिलहाल, पुलिस ने तुरंत एफआईआर दर्ज की है और जांच के आदेश दिए गए हैं।

26 girls went missing from the girls' home, created a stir in Bhopal. This girls' home was running illegally.

धर्मांतरण का अश्लील खेल

वास्तव में मामला भोपाल के परवलिया थाना से संबंधित है। यह शेल्टर होम भोपाल से दूर एक खेत में था। तारा सेवनिया गांव में मिशनरी संस्था अवैध बालिका छात्रावास चला रही थी। शुक्रवार को NCPCR की छापामार कार्रवाई में 26 नाबालिग बच्चियों वहा से गायब मिली। यह बिना रजिस्ट्रेशन के भी चल रहा था। संस्था के संचालक फादर अनिल मैथ्यूज पर शिकायत की गई है। NCPCR की लिखित शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया गया, कार्यवाहक उप निरीक्षक वीपी सिंह ने बताया की यहा पर धर्मांतरण का अश्लील खेल चल राहा है । 

10 बच्चियों को पकड़ लिया गया

साथ ही सड़कों से बचाए गए बच्चों को बालगृह में लाया गया, बिना सरकार को सूचित किए। बिना लाइसेंस के इस बालगृह में गुपचुप रूप से ईसाई धर्म का अभ्यास किया जा रहा था। 6 साल से 18 साल की 40 से अधिक लड़कियों में अधिकांश हिंदू थीं। राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने मामले की जांच की और एफआईआर दर्ज की है। मुख्य सचिव को भी नोटिस भेजा गया है। NCPCR के छापे के बाद हुए हड़कम्प के बाद प्रशासन अलर्ट हो गया. जांच के बाद कलेक्टर ने बताया कि 26 मिसिंग बच्चियों में से 10 बच्चियों को पकड़ लिया गया है। 

अवैध रूप से चल राहा था यह बालगृह 

उन्हें यह भी बताया गया कि बाकी बच्चियों को खोजा जा रहा है, धर्मांतरण के एंगल पर जांच की जाएगी, और संस्थान के बालिका छात्रावास में रजिस्ट्रेशन न कराने वाले बच्चों की भी जांच की जाएगी। गुजरात, झारखंड, राजस्थान और मध्य प्रदेश के सीहोर, रायसेन, छिंदवाड़ा और बालाघाट के बच्चे भी शामिल थे। बीजेपी नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एक्स पर पोस्ट शेयर करते हुए कहा कि भोपाल के परवलिया थाना क्षेत्र में बिना अनुमति संचालित बालगृह से 26 बालिकाओं के गायब होने का मामला मेरे संज्ञान में आया है। मामले की गम्भीरता और महत्वपूर्णता को देखते हुए सरकार से संज्ञान लेने और तुरंत कार्रवाई करने का अनुरोध करता हूँ।

Tags