100 Crore Fraud Cases Found In Haryana: पीपीपी के माध्यम से 150 योजनाओं का फर्जी लेनदेन पकड़ा गया

 
100 Crore Fraud Cases Found In Haryana: पीपीपी के माध्यम से 150 योजनाओं का फर्जी लेनदेन पकड़ा गया

हरियाणा सरकार ने मेवात के पुन्हाना में एक विशेष अभियान शुरू किया है। 14 गांवों में 100 करोड़ रुपए के केस वाले नौजवानों को इस ऑपरेशन से मिलाया गया है। इन युवाओं ने गैरकानूनी ढंग से सरकारी कार्यक्रमों का फायदा उठाया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने खुद इसकी घोषणा की है।

अब सरकार युवाओं से ब्याज सहित इस मामले में रिकवरी की योजना बना रही है। हरियाणा में परिवार पहचान पत्र (PPP) के माध्यम से अब तक 37 लाख फर्जी ट्रांजेक्शन के मामले पकड़े गए हैं। यह लोग लगभग 150 योजनाओं में गलत तरीके से लाभ ले रहे थे।

क्या हुआ खुलासा?

CM फिलहाल करनाल में हैं, जहां पोर्टल को लेकर उनसे सवाल पूछा गया। मुख्यमंत्री ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कांग्रेस पोर्टल का विरोध करती है। आज हरियाणा में लगभग सौ पोर्टल हैं।

अब तक, सरकार ने इसी पोर्टल से हजारों करोड़ रुपये बचाए हैं। सरकारी योजनाओं से अयोग्य लोगों को लाभ मिल रहा है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण मेवात के पुन्हाना में चलाया गया अभियान है।

पोर्टल पर विपक्ष का हमला क्यों

पोर्टल को लेकर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सरकार को लगातार घेर रखा है। सिरसा-फतेहाबाद के हवाई सर्वे के दौरान, उन्होंने प्रदेश की भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार पर भी हमला बोला।

उन्हें लगता है कि हरियाणा में सिर्फ पोर्टल सरकार है, जबकि आम लोग बाढ़ से परेशान हैं। उन्होंने सीधे CM से पीड़ित किसानों को मुआवजा देने का अनुरोध किया।

5.5 लाख की PPP पेंशन

वर्तमान प्रधानमंत्री ने कहा कि इस सरकार ने राज्य के लगभग साढ़े पांच लाख योग्य लोगों की पेंशन काट दी है, क्योंकि उनकी आय परिवार पहचान पत्र (PPP) में दर्ज की गई है। लोगों को परिवार पहचान पत्र से कोई योजना नहीं मिल रही है।

उनका कहना था कि प्रदेश सरकार PPP को योजनाओं का लाभ रोकने और पेंशन काटने के लिए उपयोग कर रही है। सरकार ने विधानसभा में कितने पोर्टल चल रहे हैं?

सरकार को सिर्फ पोर्टल को खोलने से मतलब है; पोर्टल चल रहे हैं या नहीं, इसकी कोई चिंता नहीं है।

Tags