Zero Watt Bulb: असल में नही होता कोई जीरो वाट बल्ब फिर कैसे पड़ा ये नाम, कितनी बिजली खर्च करता है जीरो वाट बल्ब

 
Zero Watt Bulb: असल में नही होता कोई जीरो वाट बल्ब फिर कैसे पड़ा ये नाम, कितनी बिजली खर्च करता है जीरो वाट बल्ब

Zero Watt Bulb: हम सबने जीरो वाट बल्ब सुना है। यह अक्सर नाइट बल्ब या लैंप के रूप में काम करता है। यह नाम सुनते ही सभी को लगता है कि क्योंकि यह जीरो वाट है, इससे बिजली बिलकुल नहीं खपत होती है। लेकिन क्या यह वास्तव में है? तो इसका स्पष्ट उत्तर है: नहीं, ऐसा बिल्कुल नहीं है।

0 वाट बल्ब तकनीकी रूप से कुछ भी नहीं है। इस बल्ब को आमतौर पर 12 से 15 वॉट की बिजली की आवश्यकता होती है। आप समझ सकते हैं कि कोई बल्ब जल ही नहीं सकता अगर वह बिजली नहीं लेता। यह कहना गलत होगा कि ये जीरो वाट के हैं, जो इसका मतलब है कि इनसे बिजली नहीं खर्च होती।

आज के मीटर की तुलना में पुराने मीटर कम सेंसिटिव थे। यही कारण था कि बल्ब जलने के बाद भी इंडीकेटर में जीरो दिखाई देता था, और वह 10-12 वाट से भी कम पावर नहीं माप पाते थे।

Zero Watt Bulb कहा जाता है क्यों?

कंवेशनल इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक एनर्जी मीटर कम लोड पर रिकॉर्ड नहीं कर पाते थे। इसलिए जीरो वाट बल्ब कहलाता है क्योंकि उसकी रीडिंग नहीं आती थी।

पुराने मीटर कम बिजली खपत कर सकते थे, इसलिए इन बल्बों को शून्य वाट बल्ब कहा जाता था। वहीं कम से कम पावर वाले डिजिटल मीटर का इस्तेमाल होने लगा है।

LED का अधिक प्रभावी उपयोग?

वर्तमान में, आप जीरो वाट बल्ब खरीदने में अभी भी रुचि रखते हैं, तो बहुत सारे एलईडी बल्ब उपलब्ध हैं। 15 वॉट के "जीरो वॉट" बल्ब की तुलना में ये एलईडी बल्ब सिर्फ 1 वॉट बिजली की खपत करते हैं। नाइट लैंप में जीरो वाट बल्ब का उपयोग करने से बचें। रेड एलईडी लाइटों का इस्तेमाल अगर आवश्यक है क्योंकि वे कम खपत करते हैं और हानिकारक नहीं हैं।

Tags