HDFC बैंक खाता रखने वालो के लिए बड़ी खबर, 1 जुलाई से लागू……

 
HDFC बैंक खाता रखने वालो के लिए बड़ी खबर, 1 जुलाई से लागू……

HDFC बैंक के ग्राहकों के लिए बड़ी खबर आई है। अगर आपका खाता भी इस बैंक में है तो ये खबर जानना आपके लिए बेहद जरूरी है. दरअसल, एचडीएफसी बैंक और एचडीएफसी लिमिटेड के विलय की तारीख सामने आ गई है. यह अगले महीने 1 जुलाई 2023 से प्रभावी हो जाएगा. यह घोषणा एचडीएफसी ग्रुप के चेयरमैन दीपक पारेख ने मंगलवार को की.

HDFC बैंक खाता रखने वालो के लिए बड़ी खबर, 1 जुलाई से लागू……

स्टॉक डीलिस्टिंग 13 जुलाई से प्रभावी होगी एचडीएफसी ग्रुप के चेयरमैन दीपक पारेख ने कहा कि विलय को मंजूरी देने के लिए एचडीएफसी बैंक और एचडीएफसी के बोर्ड 30 जून को बाजार बंद होने के बाद मिलेंगे। समूह के उपाध्यक्ष और सीईओ केकी मिस्त्री के अनुसार, एचडीएफसी स्टॉक डीलिस्टिंग 13 जुलाई, 2023 से प्रभावी होगी। इसका मतलब है कि 13 जुलाई को ग्रुप की हाउसिंग फाइनेंस फर्म के शेयर स्टॉक एक्सचेंज से डीलिस्ट हो जाएंगे।

दोनों कंपनियों की बोर्ड मीटिंग 30 जून को होगी. एचडीएफसी बैंक और एचडीएसएफ लिमिटेड के विलय के बाद एचडीएफसी बैंक दुनिया का 5वां सबसे मूल्यवान बैंक बन जाएगा. अप्रैल 2023 तक एचडीएफसी बैंक दुनिया में मार्केट कैप के मामले में 11वें नंबर पर था। बिजनेस टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, एचडीएफसी के चेयरमैन दीपक पारिख ने कहा कि दोनों कंपनियों के बोर्ड 30 जून को पोस्ट मार्केट टाइम में बैठक करेंगे और विलय पर मुहर लगाएंगे।

सार्वजनिक शेयरधारकों के पास होगी 100% हिस्सेदारी एचडीएफसी बैंक ने पिछले साल 4 अप्रैल, 2022 को एचडीएफसी लिमिटेड के अधिग्रहण के लिए अपनी सहमति व्यक्त की थी। ये डील करीब 40 अरब डॉलर की है. प्रस्तावित इकाई का संयुक्त परिसंपत्ति आधार लगभग 18 लाख करोड़ रुपये होगा। इसके बाद एचडीएफसी बैंक में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी सार्वजनिक शेयरधारकों के पास होगी और एचडीएफसी बैंक के मौजूदा शेयरधारकों के पास बैंक में 41 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी। एचडीएफसी लिमिटेड के प्रत्येक शेयरधारक को उसके प्रत्येक 25 शेयरों के लिए एचडीएफसी बैंक के 42 शेयर मिलेंगे।

एचडीएफसी बैंक और एचडीएफसी के विलय से बनने वाली इकाई की बैलेंस शीट भी बड़ी होगी, जिससे बाजार में उसका रुतबा और बढ़ जाएगा. यह विलय एचडीएफसी लिमिटेड के लिए अधिक फायदेमंद साबित हो सकता है, क्योंकि इसका कारोबार कम लाभदायक है। साथ ही एचडीएफसी बैंक का लोन पोर्टफोलियो मजबूत होगा.

दोनों कंपनियों के शेयरों में बढ़ोतरी का कर्मचारियों पर असर के बारे में चेयरमैन दीपक पारिख ने कहा कि 60 साल से कम उम्र के हर कर्मचारी को इसमें शामिल किया जाएगा और उनकी सैलरी बिल्कुल भी कम नहीं की जाएगी. एचडीएफसी बैंक को हमारे लोगों की जरूरत होगी. विलय से जुड़े इस ऐलान के बाद दोनों कंपनियों के शेयरों में करीब 2 फीसदी का उछाल आया. हालांकि, शेयर बाजार में कारोबार के अंत में हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कंपनी (एचडीएफसी) लिमिटेड के शेयर 1.33 फीसदी की तेजी के साथ 2,761.60 रुपये पर बंद हुए, जबकि एचडीएफसी बैंक लिमिटेड के शेयर 1.39 फीसदी की तेजी के साथ 1,658.25 रुपये पर बंद हुए.

Tags