Home Trending News UP News Tech Haryana News Weather Gold-Silver Price More

8वीं क्लास के कामचोर लड़के ने लिख दिया कमाल का निबंध, जबकर टीचर कॉपी चेक किया तो हो गया दिमाग का दही

By Rahul Junaid

Published on:

हिंदी निबंध लेखन बहुत से बच्चों के लिए एक रोचक और क्रिएटिविटी गतिविधि होती है। कुछ बच्चे तो इसे अपना शौक मानते हैं। जबकि कुछ बच्चे इससे कतराते भी हैं। हालांकि जो बच्चे इसमें अपनी रुचि दिखाते हैं। वे अक्सर अपनी अनोखी सोच और कल्पना के जरिए ऐसी क्रिएटिविटी प्रस्तुत करते हैं कि शिक्षक भी आश्चर्यचकित रह जाते हैं।

बच्चों के निबंध में दिखाई देने वाली इस तरह की क्रिएटिविटी न सिर्फ उनके व्यक्तित्व को निखारती है। बल्कि समाज में एक नई सोच के विकास में भी योगदान देती है। इसलिए हमें इसे प्रोत्साहित करना चाहिए और ऐसे युवा प्रतिभाओं को उनकी क्रिएटिविटी यात्रा में सहायता प्रदान करनी चाहिए।

एक अंग्रेजी मीडियम छात्र का हिंदी में अनोखा निबंध

हाल ही में एक अंग्रेजी मीडियम के छात्र द्वारा हिंदी में लिखा गया निबंध सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। इस निबंध को लिखने वाले बच्चे ने मेले के विषय पर इतनी क्रिएटिविटी और मजेदार अंदाज में अपने विचार प्रस्तुत किए कि पाठक तक हैरान रह गए।

निबंध में बच्चे ने लिखा “मेला दिनों का आता है। एक बार आकर चला जाता है। मेले में बहुत सी दुकानें आती हैं, चाट, फुलकी, समोसा.. आप भी कभी मेले में गईं कमेंट करते बताएं…”

प्रतिक्रिया में यूजर्स की टिप्पणियाँ

इस निबंध को सोशल मीडिया पर साझा करने के बाद, यह तेजी से वायरल हो गया। यूजर्स ने इसे पढ़कर अपनी हंसी नहीं रोक पाए और बच्चे की सराहना की। कुछ ने तो यह भी कहा कि बच्चा आगे चलकर एक सफल यूट्यूबर बन सकता है। एक यूजर ने लिखा “ये तो मंझा हुआ लगता है। बिल्कुल एक सोशल मीडिया स्टार की तरह!”

युवा पीढ़ी में क्रिएटिविटी की पहचान

इस तरह के निबंध न केवल बच्चों की कल्पना और क्रिएटिविटी को दर्शाते हैं। बल्कि यह भी बताते हैं कि कैसे युवा पीढ़ी अपनी अभिव्यक्ति के नए तरीके खोज रही है। ऐसे में शिक्षकों और अभिभावकों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि वे इस तरह की प्रतिभाओं को पहचानें और उन्हें उचित मंच प्रदान करें।

Related Post